Gemstone Universe
  • Responsible Jewellery Council
  • ICA
  • Indo-American Chamber of Commerce - IACC
  • Gemological Institute Of America - GIA

The World’s Favourite Destination to Buy Gemstones Online. The authority on Jyotish Gemstones & Astrological Gemstones

Articles Categories
    
    Articles: क्या रत्न काम करते हैं- नहीं, वे 90% लोगों के लिए काम नहीं करते। द जेमस्टोनयूनिवर्सNEWS FEED

    रत्न धारण करने से पहले जानने योग्य अनिवार्य तथ्य

    क्या रत्न काम करते हैं- नहीं, वे 90% लोगों के लिए काम नहीं करते।

    कार्मिक (कर्मफल) जीवन चक्र को बदलना एक दुष्कर कार्य है

    जिस दिन व्यक्ति जन्म लेता है, उसके कर्मफल के आधार पर जीवन चक्र, जिसे कई लोग भाग्य/ नियति के रूप में भी जानते हैं, अस्तित्व में आ जाता है। यह कर्मफल जीवन चक्र व्यक्ति के जीवनकाल की सभी महत्वपूर्ण उपलब्धियों, यानी उसके जीवन में होने वाली सभी घटनाओं का सकल रूप है। इस चक्र में खुशी और निराशा के क्षण हैं, विलासिता और गरीबी के चरण हैं, सर्वोच्च शक्ति भी है एवं बीमारियां भी और इसमें शक्तियों का दौर भी है तो निरादर भी, ध्यान केंद्रित मन भी है और चिंताएं भी, प्रेम का अनुभव है और रिश्तों में विफलताएं भी हैं।

    दुर्घटनाओं, घातक बीमारियों, तलाक, नौकरी का अभाव, मुकदमेबाजी, सामाजिक सम्मान की कमी, संतान आदि की समस्या जैसे कर्मफल जीवन चक्र के नकारात्मक कारकों का मुकाबला करने के लिए पवित्र ग्रंथों ने बाधाओं को दूर करने, समस्याओं से निबटने और अंत में खुशी और संतुष्टि की भावना के साथ विजयी हो कर उभरने के 6 कार्मिक (कर्मफल) मार्ग सूचीबद्ध किए हैं।


    नकारात्मक कर्मफल जीवन चक्र को बदलने वाले 6 मार्ग हैं :

    1. मंत्र
    2. तंत्र
    3. यंत्र
    4. औषध
    5. यज्ञ
    6. रत्न

    <p >

    नकारात्मक कर्मफल चक्र को बदलने वाले 6 मार्ग

    यहां हम इन कर्मफल मार्गों के आवश्यक अर्थों और उनसे जुड़ी हुई सीमाओं का संक्षिप्त रूप से उल्लेख करेंगे।

      1. नकारात्मक कारकों को दूर करने वाला पहला मार्ग है मंत्र . मंत्र एक आध्यत्मिक सूत्र है जिसमें पवित्र शब्दांश होते हैं जिनको विशेष तरीके से जपने से कामनाओं की पूर्ति होती है। मंत्रों से संबंधित सीमाएं निम्नलिखित हैं :

        1. सर्वश्रेष्ठ प्रभाव के लिए मंत्रों को विशेष प्रकार से प्रतिदिन नियत समय पर जपना पड़ता है। अनेक मंत्रों में यह पूर्व शर्त होती है कि पूरी प्रक्रिया के दौरान ब्रह्मचर्य की जीवनशैली का पालन किया जाए। आज के समय में, एक सामान्य गृहस्थ - जिसे उपचारात्मक उपायों की सर्वाधिक आवश्कता है - के लिए यह कल्पना करना भी कठिन है कि वह प्रातः सुबह 4 बजे पेड़ के नीचे बैठे और बिना अंतराल के कई दिनों के लिए अभ्यास करे।
        2. जपे जाने वाले मंत्रों की कुल संख्या बहुत अधिक है। यह 108 से लेकर 1,25,000 या उससे भी ज्यादा हो सकती है। इसके अतिरिक्त, यह एक प्रमाणित तथ्य है कि आपके रोज के मन्त्र जाप की संख्या पिछले दिन या और दिनों के बराबर होनी चाहिए।
        3. किसी को भी मन्त्र जाप का आरंभ गुरु से ही कराना चाहिए - एक दैवीय शिक्षक जो व्यक्ति को मंत्र जाप की सूक्ष्मताओं की शिक्षा देता है और अपनी अाध्यात्मिक ऊर्जा का एक भाग भी प्रदान करता है। यह पूरी प्रक्रिया कुल मिलाकर दीक्षा और शक्तिपात कहलाती है। .
        4. मंत्र जाप एक लय में होना चाहिए, उनके शब्दांशों का उचित प्रवाह होना चाहिए, क्योंकि मूलतः मंत्र ध्वनि तरंगों के जरिए काम करते हैं। उदाहरण के लिए ह्रींग ह्रीम से बिलकुल अलग है और ह्रीम ह्रींग से बिलकुल अलग है। गलत जाप और गलत मंत्र का चयन व्यक्ति के जीवन में भयंकर दुरावस्था ला सकते हैं और भ्रम सहित अनेक समस्याएं पैदा कर सकता है। मैंने ऐसे कई परिवार देखे हैं जो गायत्री मंत्र के अनियमित और अशुद्ध जाप से बर्बाद हो गए। व्यक्ति किसी वेब पेज को पढ़कर बिना सोचे-समझे मंत्र जाप करने लगते हैं और परिणाम होता है घर में बार-बार झगड़े और विरोध जिससे घर में विद्वेषपूर्ण वातावरण बनने लगता है।
        5. हमें सजग रहना चाहिए कि अधिकांश मंत्र शिव और शक्ति से उत्पन्न हुए हैं। कलियुग के शुरू में(वर्तमान काल सीमा) महादेव शिव ने स्वार्थपूर्ण कारणों के लिए मंत्रों का दुरुपयोग और दूसरे व्यक्तियों की पीड़ा का कारण बनने को देखकर उनको कीलित कर दिया, यानी उन पर आध्यात्मिक पाश (लॉक) लगा दिया। आज हमें जो भी मंत्र दिखाई देते हैं वे मूल मंत्रों का संशोधित रूप हैं, जिनमें से विशेष शब्दांश या ध्वनि कारक को हटा दिया गया है, ताकि मंत्रों को निष्क्रिय करने के लिए आध्यात्मिक पाश सृजित किया जा सके। मंत्रों को पुनः प्रभावपूर्ण बनाने के लिए हमें विधियां अपनानी पड़ती हैं जैसे उत्क्लाना (आध्यात्मिक पाश का निवारण) और शपोधरा (अाध्यात्मिक श्राप का निवारण) ऐसे लोग बहुत दुर्लभ नस्ल के हैं जिनको इन विधियों का ज्ञान है।

     


      1. कर्मफल जीवन चक्र में परिवर्तन के लिए दूसरा मार्ग है तंत्र . तंत्र शब्द का मूल अर्थ है वांछित परिणामों के लिए कोई युक्ति या आध्यात्मिक प्रक्रियाओं का समामेलन। इसमें मुद्राओं - नियमित हस्त मुद्राओं, आसन योग मुद्रा आदि-आदि शामिल हैं। वांछित परिणाम लाने की तंत्र की प्रभावप्रदता मंत्रों पर निर्भर करती है। इसलिए इस मामले में मंत्रों से संबंधित सूचीबद्ध सभी सीमाएं लागू होती हैं। आप परिणामों की कल्पना कर सकते हैं।

      1. कार्मिक जीवन चक्र को बदलने वाला तीसरा मार्ग यंत्र है . यंत्र मंत्र जाप के समय बनाया जाने वाला जटिल ज्यामितीय आकार है और पारम्परिक रूप से इसे पवित्र देवताओं का आसन माना जाता है। यंत्रों में शक्ति-जागृति के लिए सशक्त और निरंतर मंत्र साधना और यंत्र के दैनिक अभिषेक की आवश्यकता होती है। इस प्रक्रिया को प्रतिदिन करना होता है और यह प्रकिया कुछेक बार 45 मिनट से 2 घंटे तक चलती है। इस तरह की सीमाओं के चलते अधिकांश यंत्र पूरी तरह से प्रभावहीन हो जाते हैं।

      1. औषध का मूल अर्थ है दवा और यह रोग की अवस्था में प्रयोग की जाती है। अन्य चुनोतीपूर्ण कर्मफल परिस्थितियों में इसका बहुत कम प्रयोग है।

      1. यज्ञ मूल रूप से एक अग्नि कर्मकांड है जिसमें पवित्र जड़ी-बूटियों और अन्य पवित्र सामग्रियां अग्नि को समर्पित की जाती हैं और जो पवित्र देवता के वाहक के रूप में काम करता है। यज्ञ भी मंत्रो पर निर्भर है और यदि आप मंत्रों की सीमाओं को देखें तो आप अनुमान लगा सकते हैं कि यह उपचार कितना प्रभावी होने वाला है। शोर्ट कट (संक्षिप्त) दिखने वाले यज्ञों के समय में यह अस्वास्थ्यकर चलन आजकल समय, धैर्य और समर्पण की कमी से देखा जाता है। इन यज्ञों का शास्त्रों में कोई आधार नहीं है और मूल रूप से इनको आलस्य और समय की कमी को सही ठहराने के लिए विशिष्ट रूप से संशोधित कर दिया गया है। उदाहरण के लिए पवित्र ग्रंथों में उल्लेख किया गया है कि गणपति होम - भगवान गणेश का यज्ञ - सुबह होने से पहले भोर में आरंभ होना चाहिए और उस दिन जब सूरज उगना चालू हो उससे पहले समाप्त हो जाना चाहिए। आज हम देखते हैं गणपति होम दिन में कभी भी बिना विचारे कर लिया जाता है। समय सीमा के अनुसार मंत्रों की संख्या भी अलग-अलग है। परिणाम होता है थोड़ा सा लाभ या बिल्कुल भी नहीं।

    1. यह सब हमें अंतिम आश्रय और हमारी वार्ता के प्रमुख विषय- रत्न की ओर ले जाता है। यह इतना बढ़िया है कि सत्य नहीं प्रतीत होता। किसी ऊंगली में तय प्रतिनिधि ग्रह का रत्न पहनें और सब कुछ भूल जाएं। अगली सुबह जागें और सभी कामनाएं पूरी हो जाएं।

     

    नहीं, यह सबसे प्रभावी और सरल समाधान है लेकिन फिर भी रत्न उपचार में अनेक दोष आ जाते हैं, क्योंकि नियति नहीं चाहती कि आप अपने कर्मफल चक्र को आसानी से बदल लें। हमें पीड़ा से गुजरना पड़ता है।

     


    रत्न उपचार पद्धति क्यों असफल होती है।

    मैं रत्न उपचार पद्धति की असफलता को आमतौर पर 5 भागों में बांटता हूं :

    1. सुझाव गलत है, रत्न सही है।

      मैंने प्रायः देखा है कि समग्रता में ग्रहों की दशा का वास्तविक आकलन करने की बजाय व्यक्ति के जन्म के सितारे - नक्षत्र, जन्म राशि - चंद्रमा की स्थिति के अनुसार चंद्रमा के स्थान के आधार और कई बार दशा देव - प्रमुख ग्रह की अवधि के अनुसार रत्नों के सुझाव दे दिए जाते हैं। इससे कई बार समाधान होने की बजाय प्रमुख समस्याओं में वृद्धि हो जाती है।

      केस स्टडी

      आर्द्र नक्षत्र में जन्मे व्यक्तियों को सिर्फ आर्द्र नक्षत्र में जन्म लेने के कारण हेसोनिट गार्नेट (गोमेद) पहनने की सलाह दे दी जाती है। यह व्यक्ति आगे बढ़ता है और एक बड़ा 6 कैरेट का पूरी तरह दोषपूर्ण गोमेद पहन लेता है जिससे वास्तव में बिलकुल भी प्रकाश पार नहीं होता। परिणाम - सप्ताह-भर में ही चलते-चलते उसकी मोटर साइकिल का इंजन जाम हो जाता है। उसके दाएं पैर में कवक संक्रमण हो जाता है और उसे लगातार 5 दिन तक बुखार और फ्लू से जूझना पड़ता है। उसका परामर्शदाता यह जांचने की परवाह ही नहीं करता कि धनु राशि में उसका राहू हानि और दुर्घटना के 8वें घर मेंस्थितहै।

      रत्न उपचार को प्रभावी बनाने के लिए चार्ट को समग्र रूप से देखना पड़ता है जिसमें राशि, लग्न, नवमास, ग्रह दशा और गोचर्चा - वास्तविक वर्तमान ग्रह दशा शामिल हैं। जैसेकि आप मूल रूप से मिथुन हैं और इसलिए आपको एमराल्ड (पुखराज) उपयुक्त रहेगा का सामान्य सुझाव बहुत साधारण परिणाम और कई बार नकारात्मक परिणाम लाते हैं।

    2. सुझाव सही है, रत्न गलत है

      यही रत्न उपचार में अधिकतम असफलता का कारण बनता है। अधिकांश मामलों में जब रत्न सुझाव काम करने वाला होता है तो नकारात्मक कर्मफल जीवन चक्र की शक्ति को नियंत्रित कर लेती है और व्यक्ति गलत रत्न पहन लेता है जिसका परिणाम होता है किसी तरह का कोई भी नवीन सकारात्मक प्रभाव न होना। निम्नलिखित क्रम और संयोजन इस खंड में आते हैं :

      अ) रत्न भारी दोषपूर्ण होता है - प्राकृतिक रत्न में कुछ प्रत्यक्ष समावेशन होते हैं जो सिद्ध करते हैं कि उनका जन्म प्रकृति की गोद में हुआ है और उनको प्रयोगशाला में नहीं बनाया गया है। एक अच्छी गुणवत्ता वाले रत्न की विशेषताएं एकरूपी कटान, पर्याप्त निर्मलता और कम से शून्य तक समावेशन, बढ़िया चमक और उचित आकार हैं। कृपया मेरे उचित आकार के प्रयोग को नोट करें। बड़ा सटीक रूप से शक्तिशाली नहीं होता यदि वह दोषरहित नहीं है। रत्न के भार का आकर्षण रत्न उपचार पद्धति में अधिकतम असफलता का कारण बनता है . कल्पना कीजिए आपको क्या सबसे प्रभावशाली लगता है- कोई आदमी 1 कैरेट दोषरहित हीरा पहने हुए याया एक बंधुआ मजदूर अपने सिर पर 100 किलोग्राम का बेकार पत्थर कमर झुकाए ले जा रहा है।.

       

      यह इस चित्र के द्वारा ठीक से चित्रित किया जा सकता है :

      चित्र अ

       

      गंभीर रूप से दोषपूर्ण 6.5 कैरेट अफ्रीकन रूबी को $ 50 प्रति कैरेट की दर से खरीदा गया (मुझे यह भी नहीं पता कि यह वाकई में अफ्रीकी पत्थर था भी या नहीं। उसके स्वामी ने बताया कि उसको यह पत्थर अफ्रीकी बताकर बेचा गया है। ऐसा लग रहा था कि यह अफ्रीका के बजाय दक्षिण भारत का नमूना हो।)

      मैं तो इसे रत्न के रूप में भी वर्गीकृत नहीं करूंगा। मैं इसे सिर्फ अयस्क का नमूना कहूंगा। हां, मैं जानता हूं अनेक संदिघ्ध भूवैज्ञानिक विभाग अज्ञात जगहों से प्रमाण पत्र प्रदान करते हैं, जो इसे रूबी के रूप में वर्गीकृत कर देंगे। उसमें उपचारों का कोई उल्लेख नहीं होता है या रंग या निर्मलता के बारे में कोई टिप्पणी नहीं होती है। यह प्रमाण-पत्र ग्राहक को मानसिक रूप से संतुष्ट करने के लिए होता है कि उसने कुछ शुद्ध पहना हुआ है। इस तरह के रत्न किस प्रकार के परिणाम देंगे? कुछ नहीं। काम न करने के लिए किसे दोषी ठहराया जाएगा - रत्न शास्त्र? यदि आप प्रमाण-पत्र में विश्वास रखते हैं तो एक मानक रत्न शास्त्र प्रयोगशाला से प्रमाण-पत्र प्राप्त करें जैसे जीआईए-रत्न विज्ञान संस्थान, अमेरिका या एक प्रशिक्षित रत्न विज्ञानी या सरकार द्वारा नामांकित प्रशिक्षित एप्रेजरस (समीक्षक) द्वारा सरकारी मूल्यांकन कभी-कभी तो प्रमाण-पत्र की कीमत पत्थर से ज्यादा होती है। आभूषण विक्रेताओं द्वारा बेचे जाने वाले रत्नों में अधिकांश इसी गुणवत्ता के होते हैं . एक कैरेट रत्न की कीमत 2 डॉलर भी नहीं होती। हां, अयस्क का नमूना रूबी का ही है लेकिन क्या इसकी कटान इसे एक रत्न बनाती है?

      चित्र ब

      लगभग दोषरहित 2.2 कैरेट के बर्मा के रूबी को लगभग 650 डॉलर प्रति कैरेट में खरीदा गया।

      इस तरह का प्राकृतिक दोषरहित रत्न चाहे भार में कम हो लेकिन 1000 गुने अधिक और ज्यादा शक्तिशाली परिणाम देगा। यह सूर्य की शक्तियों को सर्वश्रेष्ठ ढंग से नियंत्रित करेगा और सशक्त परिणाम प्रदान करेगा।

      निष्कर्ष - हमेशा दोषरहित प्राकृतिक रत्न ही लें। रूबी अ की कीमत 325 डॉलर और रूबी ब की कीमत 1430 डॉलर है। अनेक संशयवादी तर्क करेंगे कि इस परिदृश्य में तो रत्न उपचार पद्धति सिर्फ धनी लोगों के लिए काम करेगी जो ऐसे दोषरहित रत्नों को खरीद सकते हैं। मैं इससे असहमत हूं। इस तरह के मामले में यदि कीमत की फ़िक्र हो तो कृपया दो, प्रत्येक 1 कैरेट, प्राकृतिक दोषरहित रूबी खरीदें। आपका व्यय 50% तक कम हो जाएगा लेकिन यह रणनीति निश्चित रूप से परिणाम लाती है बजाय इसके कि आप 6.5 कैरेट का नकली पत्थर पहन लें। यदि कोई इस बजट को भी पूरा नहीं कर सकता तो प्राकृतिक दोषरहित वैकल्पिक रत्न अपनाएं, जैसेकि स्पिनेल। यदि कोई इसे भी वहन नहीं कर पाए तो कृपया प्रतीक्षा करें और कुछ समय बाद मूल बुनियादी बिंदु से शुरू करें। एक अच्छी गुणवत्ता का रत्न निश्चित रूप से आपको एक ऐसी स्थिति में ले जाएगा जब आप आगे चलकर एक बेहतर गुणवत्ता का रत्न खरीद सकते हैं। यदि एक प्राकृतिक मोती आपकी सामर्थ्य से अधिक है तो प्राकृतिक नीले शीन मूनस्टोन (चन्द्रकांत) को अपनाएं।

      ब) उपचार को प्रकट करने का अभाव . रत्न उपचार की विफलता के प्रमुख कारणों में से एक है रत्न उपचार का नैतिक प्रकटीकरण यहां प्रवेश करें, पारिवारिक आभूषण विक्रेता जो मेरे दादा जी के समय से सोने और चांदी के आभूषणों की आपूर्ति कर रहा है। संयोगवश वह रत्न भी ले कर आता है और मुझे उस पर श्रद्धा है। मैं इस कहानी से थक चुका हूं। कृपया समझिए कि आभूषण विक्रेता की तुलना में रत्न विशेषज्ञ और एक ज्योतिष रत्न विशेषज्ञ एक दुर्लभ नस्ल है (जो प्रशिक्षित ज्योतिषी और मान्यता प्राप्त रत्न विशेषज्ञ हो - ध्यान रखें वह नहीं जो एक ज्योतिषी हो और संयोगवश रत्न परामर्श भी देता हो) उदाहरण के लिए खुले बाजार में 90% रूबी में ग्लास फिलिंग की प्रक्रिया होती है और ज्योतिष के लिए प्रभावहीन होते हैं। नीला सफायर (नीलम) से उपचारित बेरिलियम किस प्रकार के परिणाम देगा। एक सफ़ेद रंग का पत्थर कुछ अवशिष्ट तत्वों की मिलावट से नीला हो जाता है। यह कोई परिणाम नहीं देगा।

      निष्कर्ष हमेशा बिना उपचारित प्राकृतिक रत्न की मांग करें और यदि कोई उपचार किया गया है तो लिखित कथन का आग्रह करें। छितराए हुए सफायर (नीलम), गोंद से भरे पुखराज, रंगे हुए पीले सफायर (नीलम) और सुगठित मोतियों से परहेज करें (मोतियों के मामले में रेडियोग्राफ़ रिपोर्ट का आग्रह करें) .

      स) पवित्र ग्रंथों में सूचीबद्ध रत्न दोषों की उपेक्षा करना पवित्र ग्रंथों में प्रत्येक रत्न के लिए दोष सूचीबद्ध हैं, जिनसे समस्या पैदा होती है। बहुत कम लोगों को इन दोषों के बारे में पता है। शास्त्रों में नीले सफायर (नीलम) के बारे में उल्लेख किए गए दोषों में से एक है कि उस सफायर से परहेज करें, जिसमें कोए के पंजे जैसा समावेशन हो। ऐसा नीला सफायर (नीलम) सम्पत्ति की हानि और बुरे स्वास्थ्य को आमंत्रित करता है।

      इस बात को सुनिश्चित करें कि रत्न सात्विक हो (सकारात्मक ऊर्जा से भरा) और दोषों से मुक्त हो।

       

    3. सुझाव गलत है, रत्न सही नहीं है।

       

      यह ऊपर के दोनों नियमों का संयोजन है। हालांकि, कभी-कभी यह नियम अलग ही अजीब स्तर पर चला जाता है। दाएं हाथ की मध्यमा उंगली में चांदी में नीला सफायर (नीलम) और दाएं हाथ के अनामिका उंगली में सोने में रूबी पहने एक व्यक्ति परामर्श लेने आया। मैं बिलकुल भी समझ नहीं पा रहा था कि इनका संयोजन क्यों इस्तेमाल किया जा रहा है, यदि किसी शारीरिक व्याधि को ठीक नहीं करना है तो। मैंने उससे कहा कि इस अद्भुत संयोजन के बारे में मुझे ज्ञान दें। उसने बताया कि ऐसा माना जाता है कि नीला सफायर (नीलम) सम्पत्ति लाता है और सरकारी अधिकारी को अपने पक्ष में लाने के लिए रूबी है क्योंकि वह मूलतः सरकारी ठेकों से कमाता था। मुझे नहीं पता कि इन उद्देश्यों की पूर्ति हुई या नहीं लेकिन यह व्यक्ति इन दोनों रत्नों को साथ में प्रयोग करने के कारण पूराने अवसाद, उच्च रक्तचाप, जल प्रतिधारण और तेजी से वजन बढ़ने से पीड़ित था। मैंने उसे सिर्फ दोनों रत्नों को उतारने और कम से कम 42 दिन की अवधि के बाद वापिस लौटने के लिए कहा। परिणाम - वजन की समस्या के अलावा उसके सभी स्वास्थ्य मानदंडों में सुधार हुआ, जिसमें रक्तचाप का स्थिर स्तर भी शामिल था। आज तक फिर उसने कोई भी रत्न नहीं पहना और सबसे बेहतर रत्न सुझाव के लिए मुझे धन्यवाद देता है - एक सुझाव जिसमें कोई रत्न पहनने का सुझाव ही नहीं दिया गया।

      निष्कर्ष -यह सबसे दुर्भाग्यपूर्ण परिदृश्य होता है और यह रत्नों से जुडी डरावनी कथाओं की ओर ले जाता है। नीले सफायर (नीलम) के तथाकथित पौराणिक दुष्प्रभाव शनि देव के कारण कम और दोषों से भरे हुए खराब पत्थर के कारण ज्यादा होते हैं।

    4. सुझाव सही है, कोई क्रिया नहीं है।

       

      यह सबसे कम होता है लेकिन फिर भी होता है। लोग अपने लिए उपचार को किसी-न-किसी कारण से लगातार टालते रहते हैं। आमतौर पर बताए जाने वाले मुद्दे हैं - समय की कमी, निधि की कमी, उचित स्रोत का अभाव आदि, लेकिन यह मूल रूप से प्रेरणा का अभाव है जो नकारात्मक कर्मफल जीवन चक्र में समाया होता है। कोई भी कारण हो रत्न असफल नहीं जाता। व्यक्ति इसे असफल कर देता है।

       

    5. सुझाव सही है, रत्न सही है परन्तु इस्तेमाल सही नहीं है।

       

      मैं इस परिदृश्य को 'जितना करीब है, उतना ही दूर है' कहता हूं। सही परामर्श और अच्छा रत्न पाना बेहतरीन भाग्य है। कर्मफल जीवन चक्र इस प्रणाली में भी दोष लाने का काम करता है। मेरे पास असफलता के कारणों की काफी लम्बी सूची है लेकिन मैं मूल कारणों पर ही बात करूंगा।

      अ) रत्नजडि़त अंगूठी को बार-बार उतारना - बहुत से लोग आराम कक्ष में जाने पर, मांसाहारी भोजन खाते समय, अन्तरंग सुख लेते समय अपनी अंगूठी यह सोच कर उतार देते हैं कि उनका रत्न कुछ नकारात्मक ऊर्जा ले लेगा। कृपया इस बात को समझिए कि रत्न जगमगाते रोशनी में काम करता है। कोई रत्न आपमें सकारात्मक कम्पन पैदा करने के लिए भरसक काम करता है। जब आप उतारते हैं तो कम्पन वापिस आधार रेखा पर चला जाता है और रत्न पुनः इसे वापिस लाने के लिए कठोर प्रयास करता है। रत्न स्वयं ईश्वर की शक्ति हैं और इनका निर्माण हजारों सालों में पंच भूतों धरती, जल, अग्नि और आकाश को अवशोषित करते हुए होता है। वे इतने सात्विक होते हैं कि कभी भी ख़राब ऊर्जा नहीं लेते। पवित्र ग्रंथों में बताया गया है कि रत्न को सिर्फ किसी की अंत्येष्टि या किसी के अंतिम संस्कार के लिए श्मशान घाट जाने पर उतारना चाहिए। इस प्रक्रिया से लौटने के बाद व्यक्ति स्नान करे और अपना रत्न धारण कर ले। सर्वश्रेष्ठ परिणामों के लिए इस एक मौके को छोड़कर आपको हमेशा अपना रत्न धारण करना चाहिए। दूसरी बात जब आप पहली बार अपना रत्न धारण करते हैं तो उसका मांगलिक समय चुनाव ज्योतिष के सिद्धांतों के अनुसार होना चाहिए। उस समय के ग्रहों के संयोग आपके रत्न को और प्रभावी बनाने में सहयोग करते हैं।

      ब) दूसरे लोगों को अपना रत्न पहनाना। इससे किसी भी कीमत पर परहेज करना चाहिए। आपके रत्न को आपके नाम और जन्म सितारे पर ही ऊर्जित किया गया है और यह आपके शरीर की ऊर्जाओं और नियति के साथ लयबद्ध होता है। दूसरे लोगों को आपका रत्न देखने और प्रशंसा करने दें लेकिन उनको इसे पहनने नहीं दें।

      स) रत्न से बहुत ज्यादा आशा करना। मैंने ऐसा दृश्य देखा है कि इनसे लोग ऐसा प्रभाव महसूस करना चाहते हैं जिसकी तुलना मैं इलेक्ट्रिक कुर्सी से करता हूं। जैसे हम इलेक्ट्रिक कुर्सी पर बैठकर झटका अनुभव करते हैं वैसे ही उनको रत्न पहनते समय तुरंत अनुभव होना चाहिए। अपने रत्न के साथ अपने सबसे प्रिय मित्र की तरह व्यवहार करें। यह काम कर रहा है। यह नकारात्मक अवरोधों और वर्षों की गलतियों को दूर करने में समय लेता है। यह काम करेगा। धैर्य रखें।

     


    रत्न उपचार में असफलता से बचने और आपके रत्न से अच्छे परिणाम पाने के लिए आपकी जांचसूची :

     

    आपके नकारात्मक कर्मफल जीवन चक्र पर प्रभाव डालने और सकारात्मक नवीनता में आपकी सहायता करने वाला आधारभूत सारांश प्रस्तुत है :

    1. सही परामर्श प्राप्त करें। जानकारी लें और अपने परामर्शदाता के सन्दर्भ पूछें।
    2. रत्न गुणवत्ता की गारंटी और ज्योतिष की दृष्टि से गुणकारी अच्छे रत्न की पहचान करें।
    3. वजन की बजाय स्पष्टता, चमक, अच्छे रंग और समावेशन को प्राथमिकता दें।
    4. यदि आप पर आर्थिक दवाब हों तो वैकल्पिक रत्नों को आजमाएं।
    5. यदि आप पर अभी भी आर्थिक दवाब हों तो कृपया प्रतीक्षा करें और दोषपूर्ण रत्न लेने से परहेज करें।
    6. उचित प्रक्रिया और कर्मकांड से अपने रत्न को समुचित ढंग से पवित्र और ऊर्जावान करें। एक बार मांगलिक समय पर पहनने के बाद उसे उतारें नहीं।
    7. परस्पर शत्रुता वाले रत्न न पहनें।
    8. धैर्य रखें। यदि उपरोक्त 7 शर्तें अंग्रेजी के अक्षर "टी" से मेल खाती हैं तो आपका रत्न काम करेगा और अच्छा विकास और प्रसन्नता प्रदान करेगा।

     

     

    समाधान के 6 कर्मफल मार्गों में से रत्न उपचार का मार्ग सबसे सरल, सबसे प्रभावी और वास्तविक परिणाम लाने वाला है बस आप ऊपर वर्णित किसी चूक का शिकार न हो जाएं। रत्न उपचार कभी असफल नहीं होती और एक अच्छा रत्न कभी असफल नहीं होता। नकारात्मक कर्मफल जीवन चक्र का प्रभाव असफलता की और ले जाता है। मैंने व्यक्तियों को रत्नों द्वारा असाधारण सफलता हासिल करते देखा है और ऊपर सूचीबद्ध अवस्थाएं भी देखी हैं।

    आपका रत्न आपका सबसे प्रिय और घनिष्ठ मित्र हो सकता है जो आपकी देह और हृदय के निकटतम होता है। यह काम करता है। उपचार सही से करें और धैर्य रखें।

    ईश्वर कल्याण करे।

    गुरुजी श्री अर्णव

    गुरुजी श्री अर्णव - वैदिक गुरु अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त ग्रह रत्न विशेषज्ञ रत्न शास्त्र संस्थान, अमेरिका से मान्यता प्राप्त आभूषण व रत्न विशेषज्ञ सम्प्रति प्रधान सलाहकार www.astromandir.com एवं www.gemstoneuniverse.com. प्रमुख अंग्रेजी दैनिक डेक्कन हेराल्ड के मुख्य जन्मपत्री स्तंभकार

    दो दशकों में 3000 लेख, अन्य स्रोत और वीडियो लेकिन कुछ चीजें शायद ही कभी बदलती हैं। आप स्वयं देखिए कि गलत धारणाएं किस कदर फैली हुई हैं, जिनके परिणामस्वरूप रत्न उपचार असफल हो जाता है। अपने लाभ के किए इनसे बचें।


    © Gemstoneuniverse.com, All rights reserved.

    http://www.gemstoneuniverse.com

    Gemstoneuniverse-The Gold Standard in Planetary Gemology

    DMCA.com




    Call us: India: +91-80-25216611/+91-9448207777, USA/Canada: 1-888-864-1187, UK: 0-808-189-0483. Copyright © gemstoneuniverse.com. All materials presented here are protected by copyright laws. Unauthorized copying, duplication, transmission for commercial purposes, plagiarism will attract severe legal penalties.